मुसाफिर

जुलाई 30, 2008

सपने

Filed under: पाश — dipankargiri @ 1:38 अपराह्न

सपने हर किसी को नहीं आते
बेजान बारूद के कणों में
सोयी आग को सपने नहीं आते
बदी के लिए उठी हुई हथेली पर आए
पसीने को सपने नहीं आते
शैलफों में पड़े इतिहास के
गंथों को सपने नहीं आते
सपनों के लिए लाज़मी है
सहनशील दिलों का होना
सपनों के लिए नींद की नज़र होनी लाज़मी है
सपने इसलिए सभी को नहीं आते

(इस कविता का नाम नहीं दिया था पाश ने  अगर दिया होता तो शायद यही होता)

Advertisements

1 टिप्पणी »

  1. pash- says sapno k liye lazmi hai sehansil dilon ka hona.sapnay sabko aate hain kaun jane sapnay akar chale jate ho aur jab neend khulti hai to ankhon me dhup faili hoti hai sapna wahan nahi hota ab wo ankhon se kadmo m chala gaya hai sadko p daud rha hai.

    टिप्पणी द्वारा syedtauheed — नवम्बर 3, 2008 @ 10:48 पूर्वाह्न | प्रतिक्रिया


RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

WordPress.com पर ब्लॉग.

%d bloggers like this: